सबसे बड़े विलेन अमरीश पूरी ने क्यों अपने बच्चो को फिल्मो में नहीं आने दिया, बेटे बताया ने कारण

अमरीश पुरी हमारी इंडस्ट्री की लेजेंड्री एक्टर नेगेटिव रोल्स हो कॉमिक रोल्स हो सीरियस रोल्स हो अमरीश पुरी साहब हर तरह का रोल बहुत अच्छे से निभाते थे इतने बड़े लेजेंड जहाँ इस इंडस्ट्री को नेपुटिज्म के लिए जाना जाता है और अगर जिसके पिता सक्सेसफुल है उनके किड्स तो इंडस्ट्री में आते ही है उसके पीछे क्या कारण रहा कि अमरीश पुरी साहब के बच्चे इस इंडस्ट्री में नहीं आए

आपको बता दें कि अमरीश पुरी साहब के दो बच्चे थे बेटी नम्रता और बेटा राजीव दोनों ही इस इंडस्ट्री का हिस्सा नहीं है जबकि अमरीश पुरी साहब ने ता उम्र इस इंडस्ट्री में ही काम किया और एन टाइम तक उनके पास काम था वो इंडस्ट्री में एक्टिव थे दो हजार पाँच में उनकी डेथ हुई तब तक वो फिल्मों में काम कर रहे थे

खुद का सक्सेसफुल करियर होने के बावजूद क्यों पुरी साहब के बच्चे इस इंडस्ट्री में नहीं आए मैं आपको बताती हूँ अमरीश पुरी साहब एज एन एक्टर अपने आप को पूरा डेडिकेट कर चुके थे इंडस्ट्री को लेकिन इस इंडस्ट्री को वो अंदर से भी बहुत अच्छे से जानते थे इस इंडस्ट्री के तौर तरीके और इंडस्ट्री किस लेवल पर थी ये भी वो जानते थे खुद अमरीश पुरी साहब को सक्सेस चालीस की उम्र में मिली थी

मोगैम्बो खुश हुआ इस डायलॉग ने उन्हें बहुत फेमस कर दिया था और उसके बाद जो उनकी सक्सेस शुरू हुई वो ऊपर ही चढते रहे लेकिन उससे पहले उन्हें बहुत स्ट्रगल करना पड़ा यही कारण है कि अमरीश पुरी साहब ने अपने बच्चों पर इंडस्ट्री में आने का कभी भी प्रेशर नहीं डाला

अमरीश पुरी साहब के बेटे राजीव पुरी बताते हैं कि पिता नहीं चाहते थे कि हम लोग इंडस्ट्री में आएं क्योंकि तब बॉलीवुड इंडस्ट्री की हालत ख़राब थी इसीलिए पिता ने कहा कि तुम और भी फील्ड्स में ट्राई कर सकते हो तब राजीव पुरी ने मरचेंट नेवी जॉइन की वहीं उनकी बेटी नम्रता पुरी की अगर बात करें जो कि बेहद खूबसूरत है उन्हें ड्रेसिंग सेंस का भी ख्याल है काफी अच्छे डिज़ाइनर्स के कपड़े भी वो पसंद करती है लेकिन उसके बावजूद वो भी इंडस्ट्री में नहीं आई वो खुद एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं

आज अमरीश पुरी साहब के दोनों सेटल्ड है नम्रता की भी शादी हो गई है वहीं बात करें राजीव की तो राजीव तो इंडस्ट्री में नहीं आए लेकिन उनका बेटा वर्धन पुरी इंडस्ट्री में आया उसने इंडिशली तो यशराज की कुछ फिल्मों को असिस्ट किया जिसमें इशबजादे और शुद्ध देसी रोमांस और दावत ए इश्क शामिल है इसके अलावा वर्धन पुरी फिल्मों में भी डेब्यू कर चुके हैं हालांकि उन्हें सक्सेस अभी नहीं मिली है ये कहानी है इंडस्ट्री के उस नामी विलेन की जिसने पूरी जिंदगी इंडस्ट्री को दी नहीं चाहते थे कि बच्चे इस इंडस्ट्री में आए

Related Articles

Back to top button