Illuminati दुनिया का सबसे खतरनाक और सबसे खुफिया संघटन

Illuminati

हमने आपको बहुत सारी खुफिया एजेंसियों का नाम सुना होगा, India की RAW America की CIA Israel की Mosad इसके अलावा Britain की KGB, MI6, Pakistan की ISI ये वो खुफिया एजेंसियाँ जिनके बारे में, हम सब जानते है वक्त वक्त पर पढ़ते रहते है.

CIA

इनके कारनामे सुनते रहते है, इनके फेलिअर केबारे में जानते रहते है. और ये लोग देश के लिए काम करते हैं, बहुत सारे ऐसे मिशन को इन्होंने अंजाम दिया, देश के दुश्मनों के खिलाफ हर मुल्क की अपनी अपनी एजेंसियों ने,

क्योंकि जैसे RAW है ISI है या फिर CIA है KGB है MI6 है इनके बारे में सभी जानते है, इनके चीफ कौन होते है उनके बारे में जानते है हाँ उनके ऑपरेशन के बारे में कम लोगों को पता होता है.

क्योंकि जब ऑपरेशन होता है, तो उस वक्त वो सारी चीजें होती है, लेकिन ये वो संगठन है जिसके बारे  में सब कुछ खुफिया है, तो ऐसा क्यों है, और ये संगठन क्या है.

लेकिन क्या आपको मालूम है कि इस दुनिया में एक ऐसी भी खुफिया एजेंसि या खुफिया संगठन है. जो वाकई खुफिया है. जिसके बारे में आज करीब 200 साल 300 साल हो गए, और सिर्फ कहानियाँ है.

लोग जानते नहीं है, उसके बारे में कहते है. कि इस दुनिया के 50 प्रतिशत से ज्यादा जो अमीर और ताकतवर लोग है. इस खुफिया संगठन से जुड़े हुए जिसमें बड़ी बड़ी हस्तियों के नाम आते हैं.

लेकिन कहते ये भी है कि इस खुफिया एजेंसी के साथ जो जुड़ा होता है, वो कभी इस रास को फाश नहीं करता है, कि मैं इस खुफिया संगठन के साथ जुड़ा हूँ. और इसका मेंबर हूँ क्योंकि शर्त यही है, कि जो भी इस संगठन के साथ जुड़ता है, और उसने अगर इसको आम कर दिया बता दिया तो फिर सीधे सीधे उसकी मौत तय है,

Illuminati संघटन

और कहा जाता है, कि अगर आपने इस संघटन के बारे में बाहर की दुनिया में किसी से भी कुछ बताया तो फिर आपकी जान जानी तय है, उन्हें मार दिया जाता है,

इस के बारे में कहते हैं, कि इस दुनिया में जो कुछ भी ऐसी चीज़ होती है, कोई बड़ी घटना जिसके बारे में कभी कोई जाँच में सामने कुछ आता ही नहीं है, कि ये किसने किया किसका हाथ था तो फिर, माना जाता है. कि ये इसी खुफिया संगठन का काम है.

और उसी के मत्थे ये मड़ दिया जाता है, जब किसी ऐसे कारनामे या ऐसे इंसीडेंट के कोई सबूत नहीं मिलते।

बहुत सारे लोग होंगे जिनको इस संगठन के बारे में मालूम ही नहीं, और ये दुनिया की वो खुफिया संगठन है जो वाकई खुफिया है, सोशल मिडिया पे भी बहुत कुछ इसके बारे में आपको नहीं मिलेगा।

लेकिन आज भी ये माना जाता है, कि ये जो संगठन है खुफिया संगठन है, इसके मेंबर दुनिया भर के अलग अलग देशों में खुफिया तौर पर काम करते है मिटिंग करते हैं,

और सारा काम वैसे ही करते हैं, जो ये खुफिया एजेंसी को करना होता है, इस के हिस्से बहुत सारे कहते हैं, कि साजिशें बहुत सारी बगावत जंग बड़े बड़े लोगों का कत्ल इनका काम है, और इस संघटन का नाम है ILLUMINATI.

ILLUMINATI

क्यों इसको इतना बड़ा खुफिया संगठन कहते है, और ये इतना खुफिया क्यों है, यूरोप के कई देशों में तो पूरा यकीन है, कि आज भी काम करता है और इसमें बड़े-बड़े लोग शामिल हैं.

मगर कौन है ये क्या है? इसके सदस्य कौन होते हैं? और इसकी शुरुआत कैसे हुई? इसकी शुरुआत के पीछे की कहानी का क्या है? और क्यों इसकी शुरुआत की गई? जरूरत क्या थी? ये सारे बाते आज हम जानेंगे।

ILLUMINATI का जनम कहां हुआ

कहते हैं जर्मनी में एक जगह है INGOLSTADT ये एक छोटी सी जगह है. और इसी में ILLUMINATI का जन्म होता है INGOLSTADT में पहली बार ILLUMINATI का नाम सुना गया,

INGOLSTADT

और ये बात अभी की नहीं है, करीब बात ये 1776 की है. INGOLSTADT जगह पे एक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर थे. जिनका नाम था प्रोफेसर Adam Weishaupt

कहते है illuminati का गठन की बुनियाद illuminati का जन्म और इसके पीछे की सोच ये सब इन्हीं प्रोफेसर के जेहन की उपज थी

 Adam Weishaupt

ये यूनिवर्सिटी में पढ़ाते थे. और उसी यूनिवर्सिटी में पढ़ाने के दौरान इन्होंने पहली बार illuminati का गठन किया। और उसका नाम रखा था order of illuminati.

इस यूनिवर्सिटी के पाँच स्टूडेंट्स को अपने साथ मिलाकर उन्होंने इस illuminati का गठन किया था. कहते हैं, की इसकी पहली बैठक 01/05/1776 इन्हीं प्रोफेसर के घर पे हुई. और illuminati का जन्म हुआ.

इसके बाद धीरे धीरे इसमें लोग जुड़ते गए, लेकिन ये बड़ा ही खुफिया तरीके से इसका गठन हुआ था पाँच स्टूडेंट्स के साथ शुरू किया, और देखते ही देखते करीब तीन हज़ार लोग इसके के साथ जुड़ गए. और उसके मेंबर बने

और इनकी शपथ में ये शामिल था कि, वो इस संगठन के बारे में चर्चा नहीं करेंगे, जो भी मेंबर है वो दुनिया को बताएँगे नहीं, और इस पूरी चीज़ को राज रखेंगे।

इस संघटन क्यों किया गया

प्रोफेसर ने इस संगठन का गठन क्यों किया। तो उसके पीछे की जो कहानी निकलकर आती है वो ये है कि उस वक्त कट्टरवाद ज्यादा थी लोगों को अपने हिसाब से जीने की आज़ादी कम थी. सरकार के पास ज्यादा पॉवर थे.

चर्च और बाकी जगहों के जो संदेश और जो मैसेज थे, उसका काफी इम्पोर्टेन्ट महत्व था, लोगों को बहस करने की, अपनी बात रखने की आजादी उतनी नहीं थी.

और इन सभी चीजों को देखते हुए प्रोफेसर ने ये कहा, कि दुनिया को बेहतर बनाने के लिए, जरूरी है कि लोगों को चर्च और धर्म के कट्टरवाद से निकाला जाए और,

एक बेहतर दुनिया तभी होगी, जब वो अपनी बातें खुल के रख सके, और खुल के सारी चीजें वो कह सके मतलब कायदे से मजहब और धर्म की बेड़ियों से काट कर एक नई दुनिया बसाने के पीछे की सोच थी.

ILLUMINATI जहाँ पे सभी को बराबरी का हक हो, और सब बराबर हो और इसके पीछे किसी के साथ भेदभाव ना हो इसी के साथ इसकी शुरुआत की गयी.

ILLUMINATI के कारनामे

कहते हैं कि जो अठारहवीं सदी में जो फ्रांस में क्रांति हुई थी उस क्रांति के पीछे iluminati का हाथ था. और ये सारी प्लानिंग iluminati ने की थी. 

फ्रांस में क्रांति

इसके पुख्ता सबूत तो सामने आये नहीं । लेकिन यही कहते है कि, इस क्रांति के पीछे जो सारी चीज़ें रची गयी थी, वो iluminati की देन थी.

अमेरिका के 35वें राष्ट्रपती John F Kennedy के कत्ल का इल्जाम इसी संघटन iluminati के नाम है. John F Kennedy का कत्ल 22-नवम्बर-1963 को हुआ था. और ये John F Kennedy का कत्ल आज भी एक रहस्य एक राज है.

John F Kennedy

बहुत सारे जो experts है उनका कहना है, की  इस संगठन  के साथ जो भी जुड़ेगा वो हमेशा खुफिया रहेगा, कभी सामने नहीं आएगा, इसके जो काम करने वाले लोग है. और अलग अलग देश में रहकर काम करेंगे,

और जब भी जरूरत होगी, ये एक साथ किसी एक mission पर निकल पड़ेंगे, और उसी हिसाब से उन चीजों को अंजाम देंगे।

तो आज भी मतलब इसके गठन के बाद 1776 से 2020 तक, करीब इस संघटन को 250 साल हो गए और, 250 साल में इस संगठन के बारे में में बहुत ज्यादा जानकारी दुनिया में किसी के पास नहीं है.

ये सब बाटे जब पता चलती है. तो लगता है है की INDIA की RAW, AMERICA की CIA, ISRAEL की MOSSAD इसके सामने कुछ भी नहीं है.

प्रोफेसर Adam Weishaupt ने एक किताब लिखी जिसमें illuminati के बारे में पूरी तरह से लिखा गया है की, illuminati का गठन क्यों हुआ, और इसका मकसद क्या था और ये किताब आज भी वहाँ के शहर के museum में रखा हुआ है.

ये भी पढें Area-51 क्या है, Area-51 बना कैसे, और Area-51 रहस्यमयी कैसे बना

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker