Mark mascarenhas जिसने Sachin Tendulkar को अरबपती बना दिया।

Sachin Tendulkar और Mark mascarenhas की अजीब एक कहानी, कैसे सचिन अरबपती बने.

Mark mascarenhas कौन थे

हालांकि नाम अंग्रेजी का है, लेकिन वो असल में बैंगलोर का था ।अमेरिका में पढाई की, टेलीविजन प्रॉडक्शनच्या का डिप्लोमा किया। बड़ी कंपनियों में काम किया था। बाद में उन्होंने अपनी खुद की कंपनी स्थापित की और फुटबॉल विश्व कप, स्कीइंग विश्व कप का प्रसारण किया।

Mark mascarenhas सेल्समैनशिप के एक्सपर्ट थे। वह डालमिया से बातचीत करने आया था। लेकिन Mark mascarenhas को क्रिकेट देख के 10 साल हो गए थे। Mark mascarenhas को पता ही नहीं था की क्रिकेट से कितना पैसा कमाया जा सकता है।

Mark mascarenhas

डालमिया ने Mark mascarenhas से सीधे कहा की, TWI हमें लाख 8.5 मिलियन डॉलर दे रहा है, अगर आप 10 मिलियन का भुगतान करते हैं, और पहले ऍडव्हान्स में 2.5 मिलियन का भुगतान करते हैं, तो कॉन्ट्रॅक्ट आपका है।

Mark mascarenhas ने सिर हिलाके डील पक्की की। हर कोई कह रहा था कि डालमिया ने आपको फसाया, लेकिन Mark mascarenhas अड़े रहे। यह Mark mascarenhas लिए उसके जीवन का सबसे बड़ा जोखिम था, लेकिन Mark mascarenhas साहस दिखाया।

लेकिन यह साहस काम कर गया। 1996 के विश्व कप में, Mark mascarenhas ने 10 मिलियन कमाए और 20 मिलियन कमाए।यह वह समय है जब Sachin Tendulkar क्रिकेट के नए नायक के रूप में उभर रहे थे।

Sachin Tendulkar शुरुआत में बल्लेबाजी की। उन्होंने वकार यूनुस, एलन डोनाल्ड, शेन वार्न जैसे दिग्गज गेंदबाजों के छक्के छुड़ा दिए। और उस विश्व कप में Sachin Tendulkar चमके। हर मैच के बाद Sachin Tendulkar का नाम बड़ा होता जा रहा था।

Sachin Tendulkar और Mark mascarenhas की मुलाकात कैसे हुई

विश्व कप शुरू होते ही उन्हें कई स्पॉन्सर्स मिले रहे थे। लेकिन Sachin Tendulkar अपना कॉन्सन्ट्रेशन ना डगमगा जाए, इसलिए कोई स्पॉन्सर्सशीप नहीं कर थे। लेकिन अंत में रवि शास्त्री ने Sachin Tendulkar की मुलाकात Mark mascarenhas से करवा दी।

Sachin Tendulkar Mark mascarenhas

फिर आखिर में Mark mascarenhas ने Sachin Tendulkar को साइन कर लिया । Mark mascarenhas अब यह तय करने वाले थे कि Sachin Tendulkar किस तरह के विज्ञापन करेंगे, जिनके बल्ले पर लोगो किसका होगा, उनकी शर्ट पर क्या नाम होगा। इसके एवज में वह Sachin Tendulkar को करोड़ों रुपये चुकाता था।

एक साधारण मराठी प्रोफेसर के घर जन्मे सचिन रमेश तेंदुलकर पैसों के गणित से बहुत दूर थे। Sachin Tendulkar जो उस समय लगभग 22 साल के थे, उनको को नहीं पता था कि वह एक वैश्विक ब्रांड बन गए थे।

Mark mascarenhas ने इस हीरे को पहचान लिया। और Mark mascarenhas ने Sachin Tendulkar को दिखाया कि क्रिकेट में पैसा है, और आप मैच फिक्सिंग आदि के बिना अपनी मेहनत से इसे सही तरीके से कमा सकते हैं।

Sachin Tendulkar ने Mark mascarenhas से कितने पैसे कमाए

इससे पहले सचिन 5 विज्ञापन करके एक साल में लगभग 15 लाख रुपये कमाते थे। मार्क ने उनके साथ पांच साल का अनुबंध किया और एक साल में 27 करोड़ रुपये की कमाई करने लगे।

Sachin Tendulkar Mark mascarenhas

इस एक सौदे में, Sachin Tendulkar दुनिया के सबसे अमीर खिलाड़ी बन गए। Sachin Tendulkar टीम के सभी खिलाड़ियों से तीन गुना ज्यादा कमा रहे थे।

अब हमारे पास कुछ अच्छे पत्रकार हैं जो पुराने रेडियो के युग में रहना चाहते हैं। क्रिकेट पैसे का बाजार है। बस इसी तरह अजहर की मैच फिक्सिंग की चर्चा जोशीली आवाज़ में होने लगी।

लेकिन सचिन की ओर से रवि शास्त्री ने इस सब का जवाब दिया,

‘इतिहास में पहली बार एक भारतीय एथलीट को डिजर्विंग वैल्यू मिल रही है. यह आसानी से मिलने वाली बड़ी रकम की बात नहीं है. यह कहानी उस लड़के की है जिसे वो पैसा मिला, जो वह डिजर्व करता है. एक लड़का जिसे लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर ‘ग्रेग चैपल जैसा टेक्निकल और विव रिचर्ड्स जैसी आक्रामकता’ वाला बताते हैं.’

शास्त्री ने गोली चलाने जैसी अपनी प्रसिद्ध अनुगामी शैली में तर्क दिया और गरीब पत्रकार जनता शांत हो गई।

Sachin Tendulkar के साथ Mark mascarenhas की डील उनके लिए लॉटरी बन गई। अगले तीन सालों तक तेंदुलकर ने पूरे क्रिकेट पर राज किया।

1998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शारजाह सिरीज में, उनकी लगातार दो शतकों को चमत्कार माना गया।

जब सचिन शारजाह के अरब शेख द्वारा मैन ऑफ द सीरीज़ के रूप में प्रदान की गई एक भारी कार में सवार थे, तो सभी भारतीयों के लिए यह एक सन्मान की बात थी,

इफ क्रिकेट इन रिलिजन देन सचिन इज गॉड

ये बैनर अब दुनिया भर में चमक रहे थे, मार्क ने सचिन की मेहनत को पैसों में बदल दिया था। 2001 में, World Tail ने तेंदुलकर के साथ एक 1 बिलियन का करार किया। इसका मतलब है कि Sachin Tendulkar अब अरबपति बन गए थे।

किसी ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि कोई क्रिकेटर इतना कमा सकता है। जब कोई गली में बैट बॉल खेलने वाले लड़के को उसके माता-पिता ने उसे कोचिंग भेजना शुरू कर दिया।

सब लड़के सेहवाग, युवराज कोहली से लेकर धोनी से लेकर आज के रोहित शर्मा तक, सचिन बनने के सपने देखने लगे,

न केवल सचिन बल्कि Mark mascarenhas ने गांगुली, अगरकर, रॉबिन सिंह से लेकर शेन वॉर्न तक कई क्रिकेटरों के साथ कॉन्ट्रॅक्ट साइन किया है।

लेकिन उनके सबसे प्रिय खिलाड़ी द्रविड़ के साथ उनको कॉन्ट्रॅक्ट साइन करने को नहीं मिला।

राहुल द्रविड

इसका मतलब यह नहीं था कि Mark mascarenhas जो कुछ भी करते थे उसमें सफल रहे। उनके और जगमोहन डालमिया के बीच झगड़ा भी जोर-शोर से हुआ था।

यहां तक ​​कि बीसीसीआई भी उन्हें कोर्ट में ले गई थी। वह श्रीलंका बोर्ड से भी मुकर गया। दादा गांगुली के साथ उनका झगड़ा हुआ और उनका कॉन्ट्रॅक्ट समाप्त कर दिया गया।

Mark mascarenhas के Sachin Tendulkar एकमात्र ऐसे ग्राहक थे जो अंत तक उनके साथ रहे। Mark mascarenhas ने दिखाएगा कि क्रिकेट कितना शानदार है।

अगला आईपीएल, टी 20, आदि उनके ही सपनों पर खड़ा था। क्रिकेट की दुनिया में बिजली की तरह चमकने वाले Mark mascarenhas। लेकिन उनका बाहर निकलना इसी तरह अप्रत्याशित था।

27 जनवरी, 2002 को, मार्क, जो टाटा सूमो में मध्य प्रदेश से मुंबई की यात्रा कर रहा था, एक टायर फटने की दुर्घटना हुई थी। वह वहीं ढेर हो गया।

अगले दिन भारत का कानपुर में इंग्लैंड के खिलाफ मैच था। सभी भारतीय खिलाड़ी अपने बाजु पर काले रिबन पहनकर मैदान पर आए। तेंदुलकर ने उस दिन 67 गेंदों में 87 रन बनाए।

Sachin Tendulkar ने उस दिन भावनात्मक रूप से कहा,

“यह एक बहुत बड़ा व्यक्तिगत नुकसान है।

इयान चैपल ने कहा

“Mark mascarenhas भारतीय क्रिकेट का कैरी पैकर था। उन्होंने भारतीय क्रिकेट के टेलीविज़न कवरेज को हमेशा के लिए बदल दिया।“

ये भी पढें Cricket के बॅट का साइज आज जैसा देखते है पहले वैसा नहीं था, फिर कैसा था.

Related Articles

Back to top button