जब संजय दत्त की वजह से सुनील दत्त को अपना घर गिरवी रखना पडा

अभिनेता संजय दत्त की हमेशा से ही निजी जिंदगी सुर्खियों भरी रही है चाहे उनकी निजी जिंदगी हो या फिर उनकी प्रोफेशनल लाइफ हमेशा से ही वो सुर्खियों में रहे है पिता सुनील दत्त इंडस्ट्री के बहुत बड़े सुपरस्टार थे ऐसे में इंडस्ट्री में उनके लिए आना कोई खास मशक्कत भरा नहीं रहा

लेकिन बावजूद इसके उन्होंने इंडस्ट्री में अपनी एक अलग ही छाप छोड़ी मौजूदा दौर में इंडस्ट्री के एक बड़े सुपरस्टार के तौर पर संजय दत्त का नाम लिया जाता है जो आज भी फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हुए है उनकी फिल्मों का दर्शक काफी बेसब्री से करते है और फिल्मों में उनकी अदायगी को भी लेकर खासा क्रेज बना ही रहता है

लेकिन इन सबके अलावा संजय दत्त ने अपनी निजी जिंदगी में बहुत सारे बुरे पल देखे है और एक बार ऐसे भी समय आया जब संजय दत्त का घर गिरवी रखना पड़ा था दरअसल हुआ यूँ कि अभिनेता सुनील दत्त ने फिल्म रेशमा और शेरा से फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रखा था साल उन्नीस सौ इकहत्तर में रिलीज हुई ये फिल्म सुनील दत्त की महत्वाकांक्षी फिल्म में से एक थी

लेकिन इस पहली फिल्म का अनुभव दत्त साहब के लिए इतना खराब साबित हुआ को ग्रहण सा लग गया सुनील दत्त ने फिल्म के कुछ रशेष देखे और उन्हें फिल्म बिलकुल भी पसंद नहीं आयी निर्देशक सुखदेव से उनकी कुछ बातों पर मतभेद हो गए जिनमें से एक रंजीत का फिल्म में होना भी माना जाता है सुनील दत्त ने फिल्म की कमान अपने हाथ में ले ली और फिल्म को दोबारा से शूट किया गया और इस रिसोर्स से लगभग फिल्म की लागत सौ गुना बढ़ गयी

फिल्म को रिलीज के बाद समीक्षकों की जबरदस्त सराहना मिली और कई लोगों ने इसे अपने समय से आगे की फिल्म घोषित किया लेकिन दर्शकों ने फिल्म को नकार दत्त परिवार को गहरा आर्थिक झटका इससे लगा अब सुनील दत्त के एक इंटरव्यू के अनुसार उन्हें साठ लाख का नुकसान हुआ था इस फिल्म के संगीत को सराहना मिली थी और संगीतकार जयदेव को राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था और उन्होंने संजय को अपना लकी चार्ज माना था

लेकिन पिता सुनील दत्त के लिए ये फिल्म करियर का सबसे बड़ा घाटा बनकर आयी थी हालांकि कुछ समय बाद नरगिस के डबिंग थेटर का काम चल पड़ा और सुनील दत्त को भी कुछ सुपर हिट फिल्में जैसे प्राण जाये वचन ना जाए, और नहले पे दहला में लेकिन रेशमा जहाँ संजय दत्त के डेब्यू और कई महान कलाकारों के करियर की शुरुआती फिल्म के रूप में जानी जाती है वही सुनील दत्त साहब के लिए वो फिल्म किसी कड़वी याद से कम नहीं रही

Related Articles

Back to top button