फिर साबित हुआ कि सलमान से बेहतर कोई नहीं है, संजय लीला भंसाली आज भी नहीं चुका पाए कर्ज

संजय लीला भंसाली ने कल फिल्म इंडस्ट्री के पच्चीस साल पूरे किए संजय लीला भंसाली का ये सफ़र काफी इंटरेस्टिंग रहा और इस सफ़र में अगर सबसे ज़्यादा किसी का सपोर्ट रहा है तो वो सलमान खान ही हैं खुद संजय लीला भंसाली ने अपने इंटरव्यू में बताया कि कैसे उनके सबसे बुरे वक्त में जब सब लोग उन्हें गलत कह रहे थे तब सलमान उनके साथ खड़े रहे उन्हें सपोर्ट किया

हम सब जानते हैं कि संजय लीला भंसाली की पहली बतौर इंडिविजुअल डायरेक्टर फिल्म थी खामोशी अलख़ तरह की फिल्म थी तब कमर्शियल सिनेमा और रोमांटिक स्टोरीज और गानों के दम पर फिल्में चलती थी वही खामोशी की जो कहानी थी एक ठंडी स्लो मोविंग म्यूजिकल स्टोरी थी संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म को अपना दिल दिया था लेकिन ऑडियंस ने इस फिल्म को अपना दिल दिया ही नहीं

संजय लीला भंसाली ने बताया 9 अगस्त 1996 जब फिल्म खामोशी रिलीज हुई थी तो उसकी अगली ही मॉर्निंग प्रोड्यूसर सित्ते हसन रिस्वी का उनके पास कॉल आता है और प्रोड्यूसर कहता है संजय पिक्चर बैठ गई संजय लीला भंसाली ने कहा कि मैं इतना नया था कि मुझे ये तक नहीं पता था कि पिक्चर बैठने का मतलब क्या होता है और ये भी नहीं पता था कि फिल्म का ओपनिंग शो जो है फ्राइडे को मॉर्निंग नाइन एम का होता है

इसके बाद संजय लीला भंसाली कहते हैं कि वो अपनी बहन बेला सेहगल और अपने सिनेमाटोग्राफर अनिल मेहता के साथ लिबर्टी सिनेमा जाते हैं तब लिबर्टी सिनेमा काफी पॉपुलर हुआ करता था और इस सिनेमा में कितनी भीड़ है इसको देखकर ही फिल्म के हिट और फ्लॉप का अंदाजा लग जाता था मुंबई में दो तीन थिएटरस हैं जिनसे फिल्म के बिजनेस का पता लगता है जिसमें लिबर्टी सिनेमा गेटी गैलेक्सी और चंदन सिनेमा शामिल है

संजय लीला भंसाली ने कहा कि जब वो लिबर्टी सिनेमा गए तो वो देखकर हैरान हो गए कि ऑडियंस रेस्टलेस हो रही है फ्रस्ट्रेट फील कर रही है चेयर तक तोड़ रहे हैं और तो और लिबर्टी सिनेमा वालों ने गलती ये कर दी कि एक रील पूरी उन्होंने उल्टी चला दी अब स्क्रीन पर फिल्म उल्टी चल रही है संजय लीला भंसाली ने कहा कि उस दिन मुझे लक कि मेरा सपना ख़त्म हो चुका है फिल्म डिजास्टर थी और फिल्म मेकर मेरा करियर ख़त्म हो चुका है

फिल्म की तारीफ की थी लोगों ने लेकिन बॉक्स ऑफिस पर डिजास्टर थी फिल्म इस पूरी जर्नी में मेरा सबसे ज्यादा सपोर्ट सिस्टम अगर कोई बने हैं तो वो मजरू सुल्तानपुरी और सलमान खान जो हर पल हर समय मुझे कहते रहे कि भंसाली साहब आपने बहुत अच्छी फिल्म बनाई है फिल्म बहुत अच्छी है और यही वो लोग थे जिनसे संजय को अगली फिल्म बनाने की हिम्मत मिली

उन्होंने अपने अगले प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया और उन्हें एक चीज समझ आई कि इंडस्ट्री में थिएटर में लोगों को हैप्पी और एंटरटेनिंग फिल्में पसंद आती है डार्क फिल्में लोग ज्यादा पसंद नहीं करते हैं इसीलिए अगली फिल्म को एंटरटेनिंग बनाए रखने की उन्होंने कोशिश की ये फिल्म थी हम दिल दे चुके सनम जिसमें संजय लीला भंसाली का करियर पलट दिया सलमान खान ऐश्वर्या राय के करियर की ये बड़ी फिल्में हैं और अजय देवगन के ये फिल्म टर्निंग पॉइंट साबित हुई

उससे पहले अजय देवगन को एक्शन हीरो कहा जाता था लेकिन इस फिल्म से अजय देवगन को सीरियस हीरो के रूप में ऑडियंस एक्सेप्ट करने लगी तो कुछ इस तरह की कहानी है संजय लीला भंसाली की कि पहली फिल्म में लगा था करियर खत्म हो गया और दूसरी फिल्म ने किस्मत ही पलट दी कि आज वो इस इंडस्ट्री में पच्चीस साल पूरे कर चुके हैं और सलमान खान के लिए कहते हैं कि उन्होंने बहुत प्रोत्साहन दिया

Related Articles

Back to top button